Tuesday, June 16, 2009

बस यूँ ही..Bass yun hi..


इंतेज़ार की आड़ में उम्मीद लगाएँ बैठें हैं,
कब से उस एक पल की आस लगाए बैठें हैं,
कभी ना कभी तो आएगा वो दिन,
अन्दर से एक आवाज़ दस्तक देती है,
बस यूँ ही..

कुछ देर से ही सही पर कुछ कर गुज़र जाएँगे,
कुछ देर से ही सही पर कभी तो भुला पाएँगे,
सोच कर कुछ ऐसा लबों पर मुस्कान आती है,
बंद होटों से जो नज़रों में समा जाती है,
बस यूँ ही...

कभी तो दिल से दिमाग जीत जाएगा,
सफ़र कभी तो अपनी गति बढेगा,
एक न एक दिन ऐसा भी आयेगा,
सोच के ऐसा ये दिल ललचाता है,
बस यूँ ही...

नज़रें कभी तो थक कर दम तोडेंगी,
उम्मीद कभी तो इंतज़ार का दामन छोडेगी,
कभी तो रुकेगा ख्वाइशों का कारवां,
कभी तो हम भी हंस सकेंगे खुद पर,
बस यूँ ही...

(For those who have trouble reading hindi)

Intezaar ki aad mein umeed lagaye baithe hain,
Kab se uss ek pal ki aas lagaye baithe hain,
Kabhi na kabhi to ayega woh din,
Andar se ek awaaz dastak deti hai,
Bass yun hi...

Kuch der se hi sahi par kuch kar guzar jaenge,
Kuch der se hi sahi par kabhi to bhula paenge,
Soch kar kuch aisa labon par muskaan aati hai,
Band hoton se jo nazron mein sama jaati hai,
Bass yun hi...

Kabhi toh dil se dimag jeet jaega,
Safar kabhi toh apni gati badhaega,
Ek na ek din aisa bhi ayega,
Soch ke aisa yeh dil lalchata hai,
Bass yun hi...

Nazarein kabhi toh thak kar dum todengi,
Umeed kabhi toh intezaar ka daaman chhodegi,
Kabhi to rukega khwaashion ka karawaan
Kabhi toh hum bhi hans sakenge khud par,
Bass yun hi...

3 comments:

SrishtiC said...

You wrote this ? :O

Arrey waah!

When you started writing this, dil dimaag se toh tabhi jeet gaya tha :P

As I said, usse dekh kar shaayari aa gai...

I love this anyway :)

Mishika said...

Yes I did.

Thank You.

I hope so too.

बिना देखे ही शायरी आ गयी..!

I love it too. :D

truemate said...

yaha toh mehfil jami hai..
ohh u written these.. if yes then good one reh.. u a shayar too hmmmm

frm my side
as its old topic so,,
जा चुके है सब और वही खामोशी छायी है,
पसरा है हर ओर सन्नाटा, तन्हाई मुस्कुराई है....